Narendra Modi In Hindi Essay

Essay in Hindi on Narendra Modi for students (Narendra Modi par nibandh)

भारत के 15वें प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का पूरा नाम नरेंद्र दामोदर दस मोदी है. उनका जन्म 17 सितम्बर 1950 को हुआ था. 26′ मई 2014 को भारत का प्रधानमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी गुजरात के 4 बार मुख्यमंत्री रह चुके थे. उनके नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी को तीन बार चुनावों में गुजरात में जीत हासित हुई थी.

गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए उनकी छवि एक सफल, ईमानदार और कठोर प्रशासक की बनी जिसके चलते सन् 2014 के चुनाव में भाजपा ने उन्हें प्रधानमंत्री पद का दावेदार घोषित कर चुनाव लड़ा और भाजपा को इस चुनाव में नरेंद्र मोदी के चमत्कारिक व्यक्तित्व, करिश्माई भाषण शैली और विकास उन्मुख चुनाव घोषणा पात्र के चलते अभूतपूर्व समर्थन मिला और पहली बार भाजपा सम्पूर्ण बहुमत के साथ 282 सीटें जीतकर सत्ता में आई.

नरेंद्र मोदी प्रभावी वक्त है और सुशिक्षित हैं. उन्होंने राजनीति विज्ञान में एमए की योग्यता प्राप्त की है.

आज नरेंद्र मोदी को भारत के इतिहास का सफल शिखर पुरुष माना जाता है. किन्तु उनका जीवन हमेशा इतना आसान नहीं रहा है. नरेंद्र मोदी का बाल्यकाल बहुत संघर्ष पूर्ण बीता. बचपन में उन्होंने रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने के काम में अपने पिता का हाथ बंटाया और साथ ही शिक्षा भी प्राप्त की. बड़े होने के बाद उन्होंने स्वयंसेवक संघ की सदस्यता ग्रहण की और नियमित शाखाओं में जाने लगे.

आगे चल कर वे आरएसएस के सफलतम प्रचारक बने. फिर उन्होंने सक्रीय राजनीति का रास्ता पकड़ा और विभिन्न राज्यों के प्रभारी रहते हुए प्रशासन के गुण सीखे. फिर गुजरात के मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने सफलता के नए आयाम प्राप्त किया और आज उनकी जिनकी भारत के सबसे सफल मुख्यमंत्रियों में होती है जिनके शासनकल में विकास की नयी नयी इबारतें लिखी गई.

यह भी पढ़िए – नरेंद्र मोदी पर निबंध (simple essay on narendra modi)

उनके द्वारा गुजरात में किये विकास कार्यों की चलते मिली प्रसिद्धि ने ही उनके नेतृत्व में भाजपा की पहली बार सम्पूर्ण बहुमत की सरकार बनवाई. प्रधानमंत्री बनने के बाद से उनके नेतृत्व में भारत की साख अंतर्राष्ट्रीय जगत में बड़ी है और भारत की छवि एक तेजी से विकासोन्मुख देश की बनी है. आशा है भारत उनके नेतृत्व में ऐसे ही तरक्की के पथ पर बढ़ता रहेगा.

Narendra Modi

पूरा नाम  – नरेन्द्र दामोदरदास मोदी
जन्म       – 17 सितम्बर 1950
जन्मस्थान – वडनगर, जि. मेहसाना (गुजरात).
पिता       – दामोदरदास मूलचंद मोदी
माता      – हीराबेन मोदी
विवाह     – जशोदाबेन के साथ

नरेन्द्र मोदी की जीवनी – Narendra Modi biography in Hindi

नरेन्द्र मोदी का जन्म 17 सितम्बर 1950 को वडनगर के मेहसाना जिले में पंसारी परिवार में हुआ, उनका परिवार मोड़-गंची-तेली संप्रदाय से संबंध रखता हैं, जो भारत सरकार के इतर पिछड़ा वर्ग में आते है. नरेन्द्र मोदी दामोदरदास मूलचंद और हीराबेन मोदी को हुए 6 बच्चो में से तीसरे थे.

बच्चे होने के नाते नरेन्द्र मोदी वडनगर रेल्वे स्टेशन पर अपने पिता की चाय बेचने में मदत करते थे, और कुछ समय बाद में अपने भाई के साथ बस स्टैंड के पास खुद का चाय का स्टाल चलाना शुरू किया.

उन्होंने अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा 1967 में वडनगर से ही प्राप्त की, नरेन्द्र मोदी के शिक्षक ने उनके बारे में बताया की वे एक साधारण विद्यार्थी के साथ एक जबरदस्त वाद-विवादी थे. वाद विवाद में उनकी वाक्पटुता के लिए शिक्षको ने उन्हें सम्मानित भी किया.

नरेन्द्र मोदी नाटक बनाते समय कोई ऐसी भूमिका निभाते थे जो उनके जीवन से भी बड़ा हो, और इसी का प्रभाव उनके राजकीय जीवन पे भी पड़ा.

नरेन्द्र मोदी ने अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा 1967 में वडनगर से ही प्राप्त की, उनके शिक्षक ने उनके बारे में बताया की वे एक साधारण विद्यार्थी के साथ एक जबरदस्त वाद-विवादी थे. वाद विवाद में उनकी वाक्पटुता के लिए शिक्षको ने उन्हें सम्मानित भी किया. नरेन्द्र मोदी नाटक बनाते समय कोई ऐसी भूमिका निभाते थे जो उनके जीवन से भी बड़ा हो, और इसी का प्रभाव उनके राजकीय जीवन पे भी पड़ा.

नरेन्द्र मोदी जी ने 8 साल की अल्पायु में RSS के स्थानीय शाखाओ में प्रशिक्षण हेतु उपस्थित रहना शुरू किया. और वहा उनकी मुलाकात लक्ष्मणराव इनामदार से हुई, जो वकील साहेब के नाम से भी जाने जाते थे, जिन्होंने मोदी को RSS का बालस्वयमसेवक भी नियुक्त किया, और वे नरेन्द्र मोदी के राजकीय सलाहकार भी बने.

जब मोदी RSS में अपना प्रशिक्षण ले रहे थे तब वे वसंत गजेंद्रगडकर और नाथालाल जघदा, भारतीय जन संघ के नेताओ से भी मिले जो बाद में गुजरात में 1980 में बीजेपी के सदस्य बने.

और कम उम्र में ही उनका स्थानीय लड़की जशोदाबेन के साथ विवाह कर दिया गया, नरेन्द्र मोदी उसी समय हाई स्कूल से स्नातक हुए थे इसलिए उन्होंने अपने इस विवाह को अस्वीकार किया. और कुछ पारिवारिक उलझनों की वजह से 1967 में उन्हें अपना घर छोड़ना पड़ा. परिणाम स्वरुप उन्होंने अपने 2 उत्तरी और उत्तर-पूर्व की यात्रा करने में व्यतीत किये.

साक्षात्कार में मोदी ने स्वामी विवेकानंद द्वारा स्थापित हिंदु आश्रम का भी उल्लेख किया, और साथ ही कोलकाता के बेलूर मठ, अल्मोरा के अद्विता आश्रम और राजकोट के रामकृष्ण मिशन का भी उल्लेख किया. हर जगह पर बहुत कम समय तक ही रुके थे, क्यू की उनके पास कोई महाविद्यालयीन शिक्षण नहीं था.

मोदी 1968 में बेलूर मठ पहोचे और जल्द ही वहा से निकाल गये, और मोदी ने सबसे जादा कलकत्ता, पश्चीम बंगाल और असम और गुवाहाटी के रास्तो पर यात्रा की. और फिर अंत में वे अल्मोरा के रामकृष्ण आश्रम गये, जहा उच्चशिक्षण ना होने के वजह से उन्हें दोबारा निकाला गया. और फिर वे दिल्ली और राजस्थान होते हुए 1968-69 में वापिस गुजरात आये.

कभी-कभी वो 1969-70 के आस-पास अहमदाबाद छोड़ने से पहले एक-दो बार वडनगर देखने भी गये थे. वे बाद में अपने अंकल के साथ रहने लगे, जो गुजरात के रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन में ही काम करते थे. अहमदाबाद में नरेन्द्र मोदी ने इनामदार को फिर से अपना परिचय दिया, जो हेडगेवार भवन (RSS मुख्य कार्यालय) में मौजूद थे.

1971 के इंडो-पाक युद्ध के बाद, नरेन्द्र मोदी ने अपने अंकल के लिए काम करना बंद किया और और RSS के एक फुल टाइम प्रचारक बन गये.

1978 में ही नरेन्द्र मोदी RSS के संभाग प्रचारक बने और दिल्ली विद्यालय से राजनीती शास्त्र की डिग्री भी प्राप्त की. और पाच साल बाद उन्हें राजनीती शास्त्र में गुजरात विद्यालय से मास्टर और आट्र्स की डिग्री मिली.

नरेन्द्र मोदी / Narendra Modi का राजनीती को समर्पित जीवन

नरेन्द्र मोदी जी ने अपना पूरा जीवन 1971 में RSS join करने के बाद राजनीती को ही समर्पित किया. 1975-77 में जब राजनितिक झगडे चल रहे थे तब प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी में राज्यों में आपातकाल घोषित किया और RSS जैसी संघटनाओ को बंद करने कहा. तब नरेन्द्र मोदी ने गुप्त रूप से एक पुस्तक लिखी जिसका नाम “संघर्ष माँ गुजरात”, जिसमे उन्होंने गुजरात के राजनीती को वर्णित किया था.

1978 में, नरेन्द्र मोदी दिल्ली से राज्यशास्त्र में स्नातक हुए और गुजरात यूनिवर्सिटी में उनका मास्टरी का काम भी 1983 में खत्म किया.

1987 में नरेन्द्र मोदी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए, बीजेपी में वे दिन ब दिन आगे बढ़ते गए और सामाजिक हितो के कई काम उन्होंने बीजेपी में रहकर किये. उन्होंने Business के Privatisation, छोटे Business को बढ़ावा दिया. 1995 में मोदी राष्ट्रीय मंत्री के रूप ने नियुक्त हुए, 1998 के चुनाव में बीजेपी को आगे बढ़ाने में उनका सबसे बड़ा हात था.

फेबुअरी 2002 में जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में सेवा कर रहे थे. आने जाने वाली ट्रेन पर किसी ने अटैक किया, जो कथित रूप से मुस्लिमो ने किया था. और बदले के प्रतीशोध/ इरादे से गुलबर्ग के मुस्लिमो पर भी हमला किया गया. इस तरह हिंसा बढती गयी इस वजह से नरेन्द्र मोदी सरकार को उस समय कर्फ्यू की घोषणा करनी पड़ी.

कुछ समय बाद दोनों ही समुदाय में शांति की स्थिति आई और तब नरेन्द्र मोदी सरकार की कई लोगो ने पुरे देश में आलोचना की क्यू की उस हमले में 1000 से भी ज्यादा मुस्लिम मारे गए थे. नरेन्द्र मोदी के विरुद्ध 2 जांच कमिटी गठित करने के बाद सर्वोच्च न्यायालय ने पाया की नरेन्द्र मोदी के विरुद्ध कोई गवाह नहीं है जिस से उन्हें दोषी ठहरा सके.

और बाद में नरेन्द्र मोदी 2007 और 2012 में पुनः गुजरात के मुख्यमंत्री नियुक्त हुए. और तब से नरेन्द्र मोदी हिन्दित्वावादी बातो पर कम और आर्थिक development पर ज्यादा ध्यान देने लगे. गुजरात के विस्तार और प्रगतशील होने का श्रेय आज भी मोदी को ही दिया जाता है. आज उनका गुजरात मॉडल पुरे राष्ट्र में प्रसिद्द है. क्यू की उन्होंने गुजरात से गरीबी हटाकर वहा कामकाज बढाया.

 नरेन्द्र मोदी / Narendra Modi का प्रधानमंत्री नियुक्त होना

जून 2013 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की और से मोदी को प्रधानमंत्री उम्मेदवार घोषित किया गया. जहा कई लोगो ने पहले से ही उन्हें भारत का प्रधानमंत्री मान लिया था.

क्यों की कई लोगो का मानना था की मोदी में भारत की आर्थिक स्थिति बदलने का और भारत का विकास करने की ताकत है और अंत में मई 2014 में उन्होंने और उनकी बीजेपी पार्टी में लोकसभा चुनाव में 534 में से 282 सीट प्राप्त कर इतिहासिक जित दर्ज की.

इसी जित के साथ उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को हराया, जो पिछले 60 सालो से भारतीय राजनीती को संभाल रही थी. और भारतीय जनता ने उस समय दिखा दिया था के वे उस समय मोदी के रूप में भारत में बदलाव लाना चाहते थे.

और इसी जित के साथ उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को हराया, जो पिछले 60 सालो से भारतीय राजनीती को संभाल रही थी. और भारतीय जनता ने उस समय दिखा दिया था के वे उस समय मोदी के रूप में भारत में बदलाव लाना चाहते थे.

2014 के फेमस नारे : अबकी बार मोदी सरकार & अच्छे दिन आने वाले है!

और अधिक लेख:

Note: अगर आपके पास Narendra Modi biography in Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे.
अगर आपको हमारी Information about Narendra Modi in Hindiअच्छी लगे तो जरुर इस लेख को Facebook पे Like और Share कीजिये.
Note: For more articles like “Narendra Modi biography in Hindi” more Essay, Paragraph, Nibandh in Hindi. for any class students please download – Gyanipandit free Android App. कुछ महत्वपूर्ण जानकारी नरेन्द्र मोदी के बारे में google से ली गयी है.

Gyani Pandit

GyaniPandit.com Best Hindi Website For Motivational And Educational Article... Here You Can Find Hindi Quotes, Suvichar, Biography, History, Inspiring Entrepreneurs Stories, Hindi Speech, Personality Development Article And More Useful Content In Hindi.

0 thoughts on “Narendra Modi In Hindi Essay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *